Sometimes You Would Not Get An

image

Apology Or An Explanation,,
But That’s Fine You Are Strong Enough To Move On without it…

Advertisements

लाइफ ओन अ पार्क बेंच।।।

मुसाफिर – हेल्लो!! क्या मैं तुम्हारे बगल में बैठ सकता हूँ? ⊙_⊙
ज़िन्दगी – हाँ जरुर मेरे मेहमान बनकर 🙂
मुसाफिर – तुम्हारा शुक्रिया मेरे पैरो में बहुत तेज़ दर्द हो रहा था ∩__∩
जिंदगी – ये तो अच्छी बात नहीं है !! क्या हुआ? (●^o^●) Continue reading “लाइफ ओन अ पार्क बेंच।।।”

धुंधलाती यादें…

धुंधली पडने लगी है कुछ यादें,
चलो उन्हें किसी कागज़ पर उतार दें,
मिलकर हम अपने उन खुशी के पलों को,
अपनी आने वाली पीढ़ी क लिए किसी कोने में संभाल दें,
चलो भूल जाएँ उन यादों को कुछ वक़्त क लिए,
मिलेंगे जब वो कागज उन्हें ,
होगा अचम्भा उन्हें और थोड़ी खुशी हमें,
जानकर क़ि कहा थे हम और कहा आगये,
एक साथ थे हम और एक साथ यहाँ आगये,
धुंधली पडने लगी हे कुछ यादें,
चलो उन्हें किसी काग़ज पर उतार दें,
मिलकर हम अपने उन खुशी क पलों को,
कही किसी कागज पर उतार दें…।।। ^_^
🙂
ScreenShot at late night..

image
Late night poem

The White Dog (Sheru)

The White Dog (Sheru)

Ye paddh kr aap logon ko ajiib lag skta he lekin thik he aap jaisey bahut he Jo bina jaaney apney aap hi raai bna letey he ,, and kabhi kabhi samney waley ko shaq na ho ishliye ussh se thodi baatien bhi Kr letey he or fir baad me apney friends k sath gossip thoktey he,, kher chodiye ye sab yha nahi batana he yha to me kuch kuch or baat bataney wala hu,,
Continue reading “The White Dog (Sheru)”